वर्षा व ओलावृष्टि से लोगों को भीष्ण गर्मी से राहत मिली, फसलों में भारी नुकसान होने सम्भावना

महेन्द्रगढ़  / प्रमोद बेवल


शुक्रवार सायं लगभग तीन बजे आसमान पर छाए काले बादलों से यकायक हुई तेज हवाओं के साथ वर्षा व ओलावृष्टि से जहां लोगों को भीष्ण गर्मी से कुछ राहत मिली वहीं खरीफ की फसलों में भारी नुकसान होने सम्भावना व्यक्त की जा रही है ।


शहर में हुई बरसात व ओलावृष्टि के कारण बालाजी चौक, विश्वकर्मा चौक, सैनिक कैंटीन के आसपास सड़क पर जल का जमावड़ा बन गया । सड़कों पर ओलों की सफेद चादर सी बिछ गई । पहले छोटे साइज फिर थोड़ी देर बाद मोटे ओलों की बरसात हुई । टीनशैड पर गिरते मोटे ओले जोरदार आवाज करते जिससे लोगों का दिल भी कांपने लगा था । तापमान 45° को पार कर रहा था इसलिए इस बरसात से लोगों को कुछ राहत भी महशूस हुई ।

क्षेत्र के किसान मनीराम यादव मुंडिया खेड़ा, अनिल राव बेवल, मेनपाल दौंगड़ा अहीर, मुकेश शर्मा खैराना आदि ने बताया कि ओलों का साइज काफी मोटा था । जमीदारे में इस समय कपास की फसल बो रखी है तथा उस पर मोटे ओले ने कपास के पौधे को ही तोड़ दिया । पौधा टूटने के बाद यह दोबारा फूटता नहीं नष्ट ही हो जाता है । इस ओलावृष्टि से कई पेड़ों की टहनियां टूट गई । कई पक्षी घायल हो गए । जमीदार मन ही मन भगवान से यह प्रार्थना कर रहा था कि यह ओलावृष्टि रुक जाए और किसान की फसल बच जाए ।  जमींदारों का यह भी कहना था कि ऐसी ओलावृष्टि पहले कभी देखी नहीं ।


Post a Comment

0 Comments