गरीब की चिता को जब किसी ने नही दिया सहारा तब अधिवक्ता/समाजसेविका चौधरी बबिता डागर व ममता सिंह ने किया अंतिम संस्कार


#गाजियाबाद:रामू नाम का व्यक्ति जो कि शांति नगर कालोनी में रहता था वह अपना व अपने परिवार का भरण पोषण रिक्शा चला कर करता था आज सुबह उसकी मृत्यु होने पर किसी भी आस पड़ोस के लोगो ने कोई सहायता नही करी जब इस घटना की जानकारी अधिवक्ता व समाजसेविका चौधरी बबीता डागर को हुई तो उन्होंने रामू के अंतिम संस्कार के लिए काफी लोगो को मानवता के लिए सहयोग करने को कहा पर ना हमारे समाज मे इतने NGO और अनेक संस्था है किसी ने भी कोई मदद नही की पर ममता सिंह को जैसे ही अधिवक्ता व समाजसेविका चौधरी बबिता डागर ने फोन पर जानकारी दी तो उन्होंने बिना कुछ सोचे समझे चंद मिनटों में वहाँ आकर उसके अंतिम संस्कार की तैयारी की इतना ही नही आज इन दोनों महिलाओं ने  नया इतिहास रचा और किसी अनजान व्यक्ति के लिए समशान घाट जाकर वहां तैयारी करी ओर उसको अंतिम विदाई दी चौधरी बबीता डागर  जैसी महिला ने इस बात से आम जनता को ये पैगाम दिया है अपने हो या पराये पर नारी सभी की सहायता के लिए सदैव तैयार रहती है किसी अनजान व्यक्ति के लिए महिलाओं का शमशान के अंदर जाकर उसको आहुति भी दी।

Post a Comment

0 Comments