अंतरराज्यीय एटीम क्लोन गिरोह गैंग के एक आरोपी को किया गिरफ्तार


अंतरराज्यीय एटीएम क्लोन गिरोह के एक आरोपी को चिड़ावा व पिलानी थाना टीम ने की संयुक्त कार्यवाही कर किया गिरफ्तार ।
झुंझुंनू ( रमेश रामावत ) एटीम में क्लोन बनाकर पैसे निकालने वाले आरोपी पर संयुक्त कार्यवाही करते हुए पिलानी सीआई मदनलाल कड़वासरा एवं चिड़ावा की सीआई लक्ष्मीनारायण सैनी मय थाना टीम ने धर दबोचा । चिड़ावा डीएसपी सुरेश शर्मा ने बताया की एटीएम पर जाकर भोलेभाले लोगों से एटीएम कार्ड लेकर उनका क्लोन तैयार कर उनके खातों से पैसे निकालने वाले एक आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस को अंतरराज्यीय एटीएम क्लोन गिरोह के सक्रिय होने का अंदेशा है। शर्मा ने बताया कि राधू की ढाणी हाल शिव कॉलोनी चिड़ावा निवासी रिटायर्ड सैनिक सुलतान सिंह जाखड़ के साथ धोखाधड़ी की रिपोर्ट दर्ज होने के बाद चिड़ावा व पिलानी पुलिस थाने में विशेष टीमों का गठन किया गया। पुलिस थाना पिलानी मदनलाल कड़वासरा के द्वारा गठित टीम ने एटीएम कार्ड बदलकर उसका क्लोन तैयार कर ठगी की वारदात बढऩे पर अपराधियों की धरपकड़ के लिए कस्बे में निगरानी शुरू की। निगरानी के दौरान सूचना मिली कि एसबीआई एटीएम पिलानी में संदिग्ध व्यक्ति घूम रहे थे। इस पर तुरंत कार्रवाई करते हुए गांव डाटा थाना हांसी हरियाणा निवासी महावीर सांसी को पकड़ा गया। उससे पूछताछ की गई तो एटीएम बदलकर क्लोन बनाने के बाद खाते से रुपए निकालने की वारदात कबूल की। इस पर पिलानी व चिड़ावा थाने की संयुक्त पूछताछ में आरोपी ने चिड़ावा व अन्य स्थानों पर वारदात करना कबूल किया। चिड़ावा डीएसपी सुरेश शर्मा ने बताया कि शातिर आरोपी एटीएम पर भोले ग्राहक की पहचान कर उनके पास जाते हैं। ये संबंधित बैंक ग्राहक को बातों में उलझा लेते हैं तथा उनसे एक या दो बार बैलेंस इंक्वायरी करवा कर उनसे कार्ड के पिन नंबर जान लेते हैं। इसके बाद उनका एटीएम भी एक बार हाथ में लेते हैं। हाथ में लगी छोटी सी मशीन से कार्ड को तुरंत स्कैन कर लेते हैं। स्कैन करने के बाद उसका क्लोन तैयार कर कुछ ही मिनटों में अगले एटीएम से उसके खाते से पैसे निकाल लेते हैं। ऐसे ग्राहक को आभास भी नहीं होता कि उसके कार्ड का क्लोन तैयार कर लिया गया लेकिन जब खाते से रुपए निकलने का मैसेज आता है तब उसके पैरों तले जमीन खिसक जाती है। कम राशि निकलने वाले कुछ ग्राहक तो बैंक व पुलिस थाने के चक्कर काटने के डर से शिकायत भी दर्ज नहीं करवाते। इससे ऐसे आरोपियों की हिम्मत और भी बढ़ जाती है। इसी कारण ऐसी घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही हैं। ज्यादा राशि निकलने पर ही ग्राहक बैंक और पुलिस थाने तक पहुंच पाता है

Post a Comment

0 Comments