कोटिया गाँव की निधि का बिकानेर के सरदार पटेल मैडिकल काॅलेज में एम.बी.बी.एस के लिए चयन

 कोटिया गाँव की निधि का बिकानेर के सरदार पटेल मैडिकल काॅलेज में एम.बी.बी.एस के लिए चयन 



- ग्रामीण आंचल में रहते हुए प्राप्त की असीम सफलता।
- गरीबों तबके के लोगों का फ्री में ईलाज करना ही प्राथमिकता।
- दसवीं में 10 सीपीए व 12वीं में 96 प्रतिषत मार्कष प्राप्त कर नीट की भी तैयारी की।

महेंद्रगढ़, प्रमोद बेवल 
कोटिया गांव की निधि ने गांव के होनहार छात्रों के लिए एजूकेषन के क्षेत्र में एमबीबीएस में चयन के साथ एक मिषाल कायम की है। गांव के पूर्व सरपंच रामेष्वर ने बताया कि निधि पुत्री बाबूलाल मूल रूप से कोटिया गांव के निवासी है और बढ़िया एजूकेषन और मैडिकल में चयन को ध्यान में रखते हुए आरपीएस स्कूल में दसवीं व बारहवीं कक्षा की पढ़ाई करते हुए नीट की तैयारी की और अब निधि का ैच्डब् बिकानेर मैडिकल काॅलेज में एमबीबीएस के लिए चयन हुआ है।

निधि ने अपनी इस सफलता का श्रेय दादी रतनी देवी, पिता बाबू लाल,  माता मंजू देवी, आरपीएस स्कूल के प्राध्यापकों और विषेश रूप से आरपीएस स्कूल की मनेजमैंट द्वारा दिए गए मार्गदर्षन और समय-समय पर दिए गए मोटिवेषन को दिया है। निधि के अनुसार उसका एक मात्रलक्ष्य एमबीबीएस व पीजी कर अपने मूल गांव कोटिया और गरीब तबके विषेश रूप से झुग्गी-झोपड़ीयों में रहने वाले बच्चे, नौजवान और बुजुर्ग लोगों की निस्वार्थ और मानव भाव से सेवा कर बगैर किसी षुल्क के चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाना है। इस खुषी के अवसर पर गांव के हालिया सरपंच दलिप सिंह, पूर्व सरपंच रामेष्वर, चेयरमैन कुंदन लाल, नम्बरदार अमरपाल, जय प्रकाष, कृश्ण कुमार, राजसिंह, नरेष, सुबे सिंह मास्टर, राजकुमार कोच व अमित नम्बरदार आदि ने एमबीबीएस में चयन होने पर निधि को बधाई दी और भविश्य में एक अच्छा डाॅक्टर बनने के लिए भगवान से प्रार्थना की।


निधि के पिता बाबू लाल नम्बरदार ने बताया कि निधि षुरू से प्रतिभाषाली रही है और यही कारण है कि इसने दसवीं बोर्ड कक्षा में भी 10 सीजीपीए और बाहरवीं कि बोर्ड परीक्षा में 96 प्रतिषत अंक प्राप्त करते हुए सम्मानित माने जाने वाले डाॅक्टर के व्यवसाय के लिए प्रतिश्ठित नीट पेपर में अच्छी रेंक प्राप्त करते हुए बिकानेर के प्रसिद्ध सरदार पटेल मैडिकल काॅलेज में अपना स्थान सुनिष्चित किया है। अब निधि साढे चार वर्श के लिए इस काॅलेज में अध्ययन करते हुए एमबीबीएस और आगे चलकर पीजी कोर्स करने का विचार है ताकि अपने क्षेत्र, राज्य व देष के लोगों के लिए निःस्वार्थ भाव से सेवा करते हुए उन्हें उत्तम स्वास्थय सुविधाएं प्रदान करना है।

Post a Comment

0 Comments