राकेश टिकैत को तत्काल ब्राह्मण समाज से माफी मांगनी चाहिए:आनंद वल्लभ गोस्वामी

 वृंदावन । गत एक माह से किसान आंदोलन के तहत बॉर्डर पर एक किसान सभा में तथाकथित किसान नेता राकेश टिकैत ने विप्र समाज व सनातन धर्म  के प्रति घोर अपमानजनक टिप्पणी के विरोध में ब्राह्मण सेवा संघ के कार्यालय पर  विप्र समाज के सभी संगठनों की सामूहिक बैठक वरिष्ठ समाजसेवी शिक्षाविद प. चंद्रलाल शर्मा की अध्यक्षता में आहूत की गई। जिसमें  ब्राह्मण सेवा संघ, सर्वब्राह्मण महासभा, ब्राह्मण महासभा, राष्ट्रीय ब्राह्मण महासंघ एवं परशुराम महिला संगठन के प्रतिनिधियों ने एक मत से निंदा प्रस्ताव पारित कर  सरकार से विधिक कार्यवाही करने की मांग की ।

बैठक में ब्राह्मण सेवा संघ के अध्यक्ष श्रीबाँकेबिहारीजी मंदिर के सेवायत आंनद बल्लभ गोस्वामी ने कहा कि किसान किसी एक जाति का नाम नहीं है हमारे कृषि प्रधान देश में हर धर्म हर जाति के नागरिक किसान हैं। लेकिन तथाकथित किसानों की सभा में राकेश टिकैत ने विप्र समाज के प्रति अशोभनीय टिप्पणी कर पूरे विप्र समाज को अपमानित करने का कुत्सित प्रयास किया है।

उमा शक्ति पीठ के प्रवक्ता आर एन द्विवेदी राजू भैया एवं भागवताचार्य डॉ मनोजमोहन शास्त्री ने कहा कि ऐसा लगता है कि तथाकथित किसान नेता राकेश टिकैत ने किसान आंदोलन में विप्र समाज के प्रति अपमानजनक टिप्पणी कर आंदोलन में जातीय तनाव फैलाने की साजिश की है ।जबकि  देश के हर राज्य में  ब्रह्म समाज भारी तादाद में खेती कर रहा है। ऐसे में ऐसी घटिया सोच का राकेश टिकैत ने प्रदर्शन किया है ।ऐसे सिरफिरे बयान देने वाले राकेश टिकैत को आंदोलन कर रहे पंजाब हरियाणा के किसान संगठनों को आंदोलन से बाहर कर देना चाहिए ।

राष्ट्रीय ब्राह्मण युव जनसभा  के नवनियुक्त राष्ट्रीय उपाध्यक्ष खगुल कृष्ण भारद्वाज एवं ब्राह्मण महासभा के अध्यक्ष प. महेशभारद्वाज ने कहा कि हमारे विप्र समाज में लाखों किसान हैं उनके बेटे होने के कारण हमारे दिल में भी किसान भाइयों के लिए अपार श्रद्धा है । 


राष्ट्रीय ब्राह्मण महासंघ के प्रदेश उपाध्यक्ष प. सुनील कौशिक तथा परशुराम महिला संघठन की अध्यक्ष श्रीमती शशि शुक्ला ने कहा कि तथाकथित किसान नेता राकेश टिकैत ने अपने बचकाने बयानों में मथुरा सहित पूरे ब्रज प्रदेश के मंदिरों मठों और सेवायतों के बारे में अशोभनीय टिप्पणी कर के पूरे विश्व में स्थित विप्र समाज का अपमान करने का जो कुत्सित प्रयास किया है वो कभी बर्दास्त नहीं किया जाएगा।



बैठक के अंत में सर्व सम्मति से निर्णय लिया गया कि यदि राकेश टिकैत ने तत्काल खुले मंच से किसानों के मध्य ब्राह्मण समाज से स्प्ष्ट माफी नहीं माँगी तो उनका भारी विरोध किया जायेगा तथा कानूनी कार्यवाही की जायेगी।



बैठक में प. सुरेशचन्द्र शर्मा, सत्यभान शर्मा, चंद्रनारायण शर्मा चीनू, लाला व्यास, विष्णु सिद्ध, तपेश पाठक, नीरज गौड़, विमल चैतन्य ब्रह्मचारी, ब्रजेश शर्मा, नरेंद्र शर्मा, सतीश पाराशर, सन्तोष चतुर्वेदी, विनीत द्विवेदी आदि उपस्थित रहे।



Post a Comment

0 Comments