बोस के विचारों को जीवन में अपनाया जाए तो ये नौजवानों में सकारात्मक उर्जा भरने में सहायक होंगे।

 महेंद्रगढ़, प्रमोद बेवल 


यदुवंशी शिक्षा निकेतन, महेन्द्रगढ़ के प्रांगण में नेताजी सुभाषचन्द्र बोस की 125वीं जयन्ती पर उन्हें मालयार्पण कर याद किया गया। आयोजित कार्यक्रम में यदुवंशी ग्रुप के वाइस चेयरमैन एडवोकेट कर्ण सिंह यादव, चेयरपर्सन संगीता यादव, निदेशक विजय सिंह यादव एवं प्राचार्य विनोद कुमार ने नेताजी को माला पहनाकर उन्हें उनके जन्म दिवस पर याद किया, वहीं विद्यार्थियों ने उनके व्यक्तित्व, त्याग, जोश, साहस एवं ओज गुणों से भरे जीवन का वर्णन अपनी रचनाओं के माध्यम से किया। 



विद्यालय के प्राचार्य विनोद कुमार ने बताया कि नेताजी का जन्म आज ही के दिन उड़ीसा प्रान्त के कटक शहर में हुआ। इनकी मृत्यु हुई तब ये मात्र 48 वर्ष के थे। नेताजी 1920 और 1930 के दौरान भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के स्वच्छ छवि वाले युवा और ओजस्वी नेता थे।

यदुवंशी ग्रुप के डायरेक्टर विजय सिंह यादव ने नेताजी के जन्म दिवस पर उन्हें याद करते हुए कहा कि नेताजी एक वीर सैनिक, कुशल यो(ा, एक महान सेनापति व प्रवीण राजनीतिज्ञ थे। उनके व्यक्तित्व के बारे में जितना कहा जाए वो कम है। नेताजी ने भारत को अंग्रेजों की गुलामी से आजाद कराने के लिए क्या कुछ नहीं किया। आजाद हिंद फोज के गठन से लेकर हर भारतीय को आजादी का महत्व बताने तक हर एक काम नेताजी ने किया। यदुवंशी ग्रुप के वाइस चेयरमैन एडवोकेट कर्ण सिंह यादव ने नेताजी को पुष्प अर्पित करते हुए कहा कि यदि बोस के विचारों को जीवन में अपनाया जाए तो ये नौजवानों में सकारात्मक उर्जा भरने में सहायक होंगे। 

स्वतंत्रता के लिए भारत में चल रहे संघर्ष के दौरान इन्होंने भारतीय राष्ट्रीय सेना ;आईएनएद्ध की स्थापना की। उन्होंने 1920 में आईसीएस प्रतिष्ठित परीक्षा में चौथा स्थान प्राप्त किया। इस अवसर पर सीनियर सैकेण्डरी हैड अरविन्द्र यादव, सैकेण्डरी हैड जितेन्द्र यादव, नवीन स्वामी मंजु यादव, मुकेश कुमार, हरिप्रकाश, सोमदत्त, सुभाष यादव व मुकेश वर्मा सहित समस्त स्टॉफ उपस्थित रहा।

Post a Comment

0 Comments