मन, वाणी और कर्म द्वारा हमेशा सत्य का आश्रय लेने बाला ही परमात्मा का सच्चा भक्त होता है



वृंदावन। टीम अजेयभारत। कुंभ मेला स्तिथ ब्राह्मण सेवा संघ के शिविर में आयोजित श्रीमद् भागवत सप्ताह ज्ञान यज्ञ श्रृंखला में व्यास आसन से आचार्य पंडित सुरेश चंद शास्त्री ने कहा की मन, वाणी और कर्म द्वारा हमेशा सत्य का आश्रय लेने बाला ही परमात्मा का सच्चा भक्त होता है। उन्होंने कहा की श्रीमद् भागवत जी हमें शिक्षा देती है, कि संसार में सब मिथ्या ही है, केवल एक मात्र ईश्वर ही सत्य है उन्होंने आगे भगवान के 24 अवतारों की कथा का सरस वर्णन करते हुए कहा की परमात्मा का अवतार धर्म की स्थापना एवम् आसुरी प्रवृत्तियों का अंत करने को हुआ। उन्होंने ये भी कहा कि प्राणी को अपना लक्ष्य प्राप्त करना है तो परम पिता परमात्मा की शरण में जाना होगा।



ब्राह्मण सेवा संघ शिविर में जहां एक ओर अध्यात्म की रस धारा प्रवाहित हो रही है वहीं परिसर स्तिथ मंदिर में विराजमान श्री बांके बिहारी जी महाराज के नित नए श्रृंगार के दर्शन श्रद्धालुओं के मन मोह रहे हैं। शिविर संयोजक पंडित सत्यभान शर्मा ने बताया कि शिविर में प्रसिद्ध विद्वान आचार्य बनवारी लाल गौड़ के आचार्यत्व में ग्यारह विद्वान ब्राह्मणों द्वारा लक्ष्मी नारायण महायज्ञ का शुभारंभ भी ब्राह्मण सेवा संघ के अध्यक्ष आचार्य आनंद बल्लभ गोस्वामी एवं कार्ष्णि नागेंद्र जी की प्रथम आहुति से प्रारंभ हो गया है।



इस अवसर पर ब्राह्मण सेवा संघ के संस्थापक चंद्र लाल शर्मा, कार्ष्णि नागेंद्र, आनंद द्विवेदी, पंडित जगदीश नीलम, चंद्र प्रकाश द्विवेदी, अविनाश शर्मा, लाला व्यास गोवर्धन, संजय शर्मा, नंद कुमार पाठक, मनोज मोहन शास्त्री, विपिन बापू, विमल चैतन्य ब्रह्मचारी, विक्रांत राज उपाध्याय, अजय मिश्रा, शिव प्रसाद तिवारी, चैतन्य गौड़, जयप्रकाश सारस्वत, अंकुश मिश्रा आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

Post a Comment

0 Comments