कुंभ मेला स्थित ब्राह्मण सेवा संघ शिविर के मंच से गूंजा यमुना मुक्ति आंदोलन का शंखनाद।


कुंभ मेला स्थित ब्राह्मण सेवा संघ शिविर के मंच से गूंजा यमुना मुक्ति आंदोलन का शंखनाद।



वृन्दावन। टीम अजेयभारत। ब्रज के यमुना प्रदूषण मुक्ति से जुड़े अनेक संगठनों, बृजवासियों एवम् संतों ने एक स्वर से कहा कि यदि यमुना वर्तमान समय में प्रदूषण से मुक्त नहीं हुई तो फिर आगे इसकी कोई संभावना नहीं है। इसके लिए समस्त यमुना प्रेमी यमुना शुद्धि के लिए हर संभव प्रयास करेंगे। उक्त उदगार यमुना प्रदूषण मुक्ति आंदोलन से जुड़े श्री बल्लभकुल पीठाधीश्वर पंकज बाबा ने व्यक्त किए उन्होंने कहा कि शासन कि बहाने बाजी अब बर्दास्त नही की जाएगी। भारतीय जनता पार्टी का शासन उत्तर प्रदेश, हरियाणा और केंद्र में भी है, अगर इन्होंने बृजवासियों की पुकार को नहीं सुना और यमुना प्रदूषण से मुक्त नहीं हुई तो शासन को इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। हिंदूवादी नेता गोपेश्वर नाथ चतुर्वेदी ने मुख्य वक्ता के रूप में कहा कि यमुना को प्रदूषण से मुक्त कराने के लिए बृजवासियों ने हर संभव प्रयास किए परंतु सफलता न मिलने का मुख्य कारण जनजागृति का अभाव रहा। जब तक यमुना के किनारे निकटवर्ती कल कारखानों का प्रदूषित जल एवम् सीवेज के गंदे नालों का निस्तारण नहीं होगा, तबतक यमुना को शुद्ध रख पाना कठिन है, इसके लिए हमें विराट जन आंदोलन चलाने की आवश्यकता है। 



कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे गोविंदानंद तीर्थ महाराज ने कहा की यमुना को सुरक्षित और शुद्ध रखने के लिए यमुना के एक किलोमीटर दूर दोनों तटों पर गंदे नाले व उनके ट्रीटमेंट प्लांट बनाके खेती के लिए उपयोग में लिया जाय और एक भी बूंद गंदा पानी यमुना में न जाए तो यमुना स्वत: शुद्ध हो जायेगी। 

विश्वविख्यात कथा वाचक मृदुलकांत शास्त्री एवम् संजीव कृष्ण ठाकुर जी ने कहा कि अब बृजवासियों के सव्र का बांध टूट गया है, यदि यमुना को प्रदूषण से मुक्त कराने के लिए कोई कठोर कदम उठाना भी पड़े तो हम पीछे नहीं रहेंगे। उन्होंने कहा कि इसके लिए दिल्ली में जाकर आमरण अनशन करने को भी तैयार हैं।



बरसाना मानमंदिर के राधा कांत शास्त्री एवम् तीर्थ पुरोहित महासभा के अध्यक्ष नंदकुमार पाठक ने कहा कि ब्राह्मण सेवा संघ संपूर्ण कुंभ परिसर में विराजमान सभी संत, बृजवासी एवम् महामंडलेश्वरों के शिविर में जाकर यमुना प्रदूषण मुक्ति आंदोलन के लिए उनका आवाहन करे और इस यमुना प्रदूषण मुक्ति आंदोलन को सफल बनाने के लिए आगे आए तो निश्चित ही यमुना को प्रदूषण से मुक्त कराने में सहयोग मिलेगा। 

मंच ने इसका सर्व सम्मति से पूर्ण समर्थन किया।

संचालन कर रहे ब्राह्मण सेवा संघ के अध्यक्ष आचार्य आनंद बल्लभ गोस्वामी ने कहा कि 18 मार्च को इस शिविर से एक विराट विप्र यात्रा कुंभ मेला परिसर में भ्रमण करेगी और प्रत्येक कुंभ मेला में स्थित शिविरों के संचालक महंत व बृजवासियों का यमुना मुक्ति आंदोलन के लिए आवाहन करेगी।

कार्ष्णि नागेंद्र जी महाराज, रमाकांत गोस्वामी, सत्यभान शर्मा, महामंडलेश्वर नवल गिरी जी महाराज आदि ने भी अपने विचार प्रकट करते हुए यमुना प्रदूषण मुक्ति आंदोलन हेतु इस आंदोलन को यमुना किनारे वृंदावन से लेकर केवल दिल्ली ही नहीं अपितु अमेरिका तक विश्व में उछालेंगे और अपने लक्ष्य यमुना प्रदूषण मुक्ति आंदोलन को पूर्ण रूप से सफल बनाएंगे।

इस अवसर पर यमुना प्रदूषण मुक्ति आंदोलन के लिए समर्पित कार्य करने के लिए एवम् उनकी उत्कृष्ट सेवाओं के लिए श्री बल्लभकुल पीठाधीश्वर पंकज बाबा महाराज, हिंदूवादी नेता गोपेश्वरनाथ चतुर्वेदी, मान मंदिर बरसाना के राधाकांत शास्त्री, महामंडलेश्वर योगी नवल गिरी महाराज एवम् डॉ रामजी लाल शास्त्री को ब्रज गौरव सम्मान से सम्मानित किया गया। बृज भाषा के कवि अशोक आज्ञ ने माँ यमुना को समर्पित काव्य पाठ किया ।

इस अवसर पर अभिषेक कृष्ण शास्त्री, सुनील सिंह,स्वामी शेषानन्द जी महाराज, राधाप्रिय महाराज, नित्यानंद दास, स्वामी जुक्तानंद , रास बिहारी शरण, प जगदीश नीलम, चंद्रनारायन शर्मा चीनू, लाला व्यास, नीरज गौड़, आनंद द्विवेदी, संजय पंडित, अमित भारद्वाज, अकुंश, बृजेन्द्र भाई कौशिक, आचार्य बुद्धि प्रकाश, ओम प्रकाश बृजवासी, श्याम सुंदर बृजवासी, विमल चैतन्य आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे ।



Post a Comment

0 Comments